Monday, August 22, 2011

रावण-राज...!

 
दौलत के इस बड़े खेल में,
सब एक से एक खिलाड़ी हैं
सब के सब झूठे वादे हैं,
बस दिखने में ये अनाड़ी हैं


कोई काम करे है इशारे पर,
कोई चले है सिर्फ़ सहारे पर
कुछ निपुण हैं बस बकवासों में,
कुछ इधर-उधर की बातों में

कोई रौब जमाये जनता पर,
और दमन करे कोई सपनों का
आरोपों - प्रत्यारोपों  से फ़िर,
करते बचाव सब अपनों का

बहुत हो चुका रावण-राज ये,
अब दौर बदलते देर नहीं
फ़िर घड़ा पाप का फ़ूटेगा,
आज नहीं तो कभी और सही

4 comments:

Shivani said...

bahut sahi likha hai,isi tarah likhte rahiye.bahut sahi likha hai,isi tarah likhte rahiye.

srujana said...

Win Exciting and Cool Prizes Everyday @ www.2vin.com, Everyone can win by answering simple questions. Earn points for referring your friends and exchange your points for cool gifts.

Unknown said...

nice post.....
Thanks For Sharing

App Development Company India said...

This is the precise weblog for anybody who needs to seek out out about this topic. You notice so much its almost arduous to argue with you. You positively put a brand new spin on a subject that's been written about for years. Nice stuff, simply nice!

Post a Comment